• +91 9971497814
  • info@interviewmaterial.com

Chapter 3- जनसंख्या संघटन (Population Composition) Interview Questions Answers

Question 1 :
नीचे दिए गए चार विकल्पों में से सही उत्तर को चुनिए :
(i) निम्नलिखित में से किसने संयुक्त अरब अमीरात के लिंग अनुपात को निम्न किया है
(क) पुरुष कार्यशील जनसंख्या का चयनित प्रवास
(ख) पुरुषों की उच्च जन्म दर
(ग) स्त्रियों की निम्न जन्म-दर
(घ) स्त्रियों का उच्च उत्प्रवास।

(ii) निम्नलिखित में से कौन-सी संख्या जनसंख्या के कार्यशील आयु वर्ग का प्रतिनिधित्व करती है
(क) 15 से 65 वर्ष
(ख) 15 से 66 वर्ष
(ग) 15 से 64 वर्ष
(घ) 15 से 59 वर्ष।
 
(iii) निम्नलिखित में से किस देश का लिंग अनुपात विश्व में सर्वाधिक है
(क) लैटविया
(ख) जापान
(ग) संयुक्त अरब अमीरात
(घ) फ्रांस।

Answer 1 :

(i) (ग) स्त्रियों की निम्न जन्म-दर।
(ii) (ख) 15 से 59 वर्ष।
(iii) (क) लैटविया।

Question 2 : जनसंख्या संघटन से आप क्या समझते हैं

Answer 2 :

कोई भी जनसंख्या विभिन्न आयु वर्ग के स्त्री-पुरुषों से मिलकर बनती है। जनसंख्या संघटन जनसंख्या की उन विशेषताओं को प्रदर्शित करता है जिनकी माप की जा सके तथा जिनकी मदद से दो विभिन्न प्रकार के व्यक्तियों के समूह में अन्तर/तुलना की जा सके।
आयु, लिंग, साक्षरता, आवास का स्थान तथा व्यवसाय आदि ऐसे महत्त्वपूर्ण घटक हैं जो जनसंख्या के संघटन को प्रदर्शित करते हैं।

Question 3 : आयु संरचना का क्या महत्त्व है?

Answer 3 :

आयु संरचना का एक देश के जनांकिकीय तत्त्व के रूप में बड़ा महत्त्व है। आयु संरचना के आधार पर ज्ञात किया जा सकता है कि विभिन्न आयु वर्गों के लोगों का कितना प्रतिशत है।
जनसंख्या के तीन आयु समूह

  1. यदि जनसंख्या में 0-14 आयु वर्ग की जनसंख्या अधिक है तो आश्रित जनसंख्या का अनुपात अधिक होगा। इस कारण आर्थिक विकास धीमा होगा।
  2. 15-59 वर्ष के आयु वर्ग में अधिक जनसंख्या होने पर कार्यशील अथवा अर्जक जनसंख्या होने की अधिक सम्भावना होती है जो देश के संसाधनों के दोहन करने में सहायक होती है।
  3. 60 वर्ष से ऊपर के आयु संरचना वर्ग में बढ़ती हुई जनसंख्या से वृद्धों की देखभाल पर अधिक व्यय होने का संकेत मिलता है।
  4. उपर्युक्त तथ्यों से स्पष्ट है कि जनसंख्या के जनांकिकीय निर्धारक के रूप में आयु संरचना का अध्ययन बहुत महत्त्वपूर्ण है।

Question 4 : लिंग अनुपात कैसे मापा जाता है?

Answer 4 :

किसी देश की जनसंख्या में लिंग अनुपात पुरुष और महिलाओं की संख्या के बीच एक सन्तुलन का सूचक होता है। यह प्रति हजार पुरुषों पर स्त्रियों की संख्या के रूप में मापा जाता है। इसके लिए अग्र सूत्र का प्रयोग किया जाता है

Question 5 :  जनसंख्या के ग्रामीण नगरीय संघटन का वर्णन कीजिए।

Answer 5 :

निवास के आधार पर जनसंख्या को दो भागों में बाँटा जाता है
(1) ग्रामीण जनसंख्या एवं
(2) नगरीय जनसंख्या।
यह विभाजन आवश्यक है क्योंकि ग्रामीण और नगरीय जीवन आजीविका और सामाजिक दशाओं में एक-दूसरे से अलग होता है। ग्रामीण और नगरीय क्षेत्रों में अन्तर के आधार हैं—आयु लिंग संघटन, व्यावसायिक संरचना, जनसंख्या का घनत्व तथा विकास का स्तर।

सामान्यत: ग्रामीण क्षेत्र वे होते हैं, जो कि प्राथमिक क्रियाओं में लगे होते हैं जबकि नगरीय क्षेत्र वे होते हैं, जिनकी अधिकांश जनसंख्या गैर-प्राथमिक क्रियाओं में लगी होती है।

पश्चिमी देशों में ग्रामीण क्षेत्रों में स्त्रियों की संख्या पुरुषों से अधिक है। नेपाल, पाकिस्तान और भारत जैसे देशों में स्थिति इससे विपरीत है। नगरीय क्षेत्रों में रोजगार के अवसरों की अधिक सम्भावनाओं के कारण ग्रामीण क्षेत्रों से महिलाओं के आगमन के कारण यूरोप, कनाडा और यू०एस०ए० के नगरीय क्षेत्रों में महिलाओं की अधिकता है। कृषि भी इन देशों में अत्यधिक मशीनीकृत है और यह लगभग पुरुष प्रधान व्यवसाय है। इसके विपरीत एशिया के नगरीय क्षेत्रों में पुरुष प्रधान प्रवास होने के कारण लिंगानुपात भी पुरुषों के अनुकूल है।

भारत जैसे देशों में ग्रामीण क्षेत्रों के कृषि कार्यों में महिलाओं की सहभागिता काफी अधिक है। भारत में महिलाओं का नगरीय क्षेत्रों में प्रवास कम होने के कारण हैं-नगरों में आवास का अभाव, रहन-सहन की ऊँची लागत, रोजगार अवसरों की कमी एवं सुरक्षा का अभाव आदि।

Question 6 : विश्व के विभिन्न भागों में आयु-लिंग में असन्तुलन के लिए उत्तरदायी कारकों तथा व्यावसायिक संरचना की विवेचना कीजिए।

Answer 6 :

आयु-लिंग के असन्तुलन के लिए उत्तरदायी कारक . आयु-लिंग के असन्तुलन के लिए उत्तरदायी कारक निम्नलिखित हैं

  1. स्त्री – पुरुष के जन्म दर में अन्तर–प्रत्येक समाज में जन्म के समय नर बच्चे, मादा बच्चों से अधिक पैदा होते हैं।
  2. स्त्री – पुरुष की मृत्यु-दर में अन्तर-पुरुष और स्त्री मृत्यु-दरों में अन्तर होने के कारण भी लिंगानुपात में अन्तर आ जाता है। विकसित देशों में भी जीवन की सभी अवस्थाओं में पुरुष मृत्यु-दर स्त्री मृत्यु-दर से अधिक होती है। अतः जन्म के समय पुरुषों की बढ़ी हुई संख्या, उत्तरोत्तर समाप्त होती जाती है।
  3. प्रवास – स्त्रियों और पुरुषों का प्रवास भी लिंगानुपात को गम्भीर रूप से प्रभावित करता है। प्रवास में लिंगीय चयनपरकता बहुत अधिक होती है।
व्यावसायिक संरचना
व्यावसायिक संरचना में 15-59 वर्ष के महिला तथा पुरुष दोनों ही कार्यरत जनसंख्या हैं जो कृषि, वानिकी, मत्स्य, विनिर्माण तथा निर्माण कार्यों में लगे होते हैं। कृषि तथा मत्स्य क्षेत्रों में पुरुष वर्ग अधिक कार्यरत है जबकि महिला वर्ग वानिकी तथा अन्य घरेलू कार्य में है। एक सर्वेक्षण के अनुसार खाड़ी के देशों में पुरुष जनसंख्या महिला जनसंख्या से अधिक है क्योंकि उन देशों में रोजगार के लिए प्रायः पुरुष ही अधिक प्रवास करते हैं।


Selected

 

Chapter 3- जनसंख्या संघटन (Population Composition) Contributors

krishan

Share your email for latest updates

Name:
Email:

Our partners