• +91 9971497814
  • info@interviewmaterial.com

Chapter 9- अंतर्राष्ट्रीय व्यापार (International Trade) Interview Questions Answers

Question 1 :
(i) संसार के अधिकांश महान पत्तन इस प्रकार वर्गीकृत किए गए हैं
(क) नौसेना पत्तन
(ख) विस्तृत पत्तन
(ग) तैल पत्तन
(घ) औद्योगिक पत्तन

(ii) निम्नलिखित महाद्वीपों में से किस एक से विश्व व्यापार का सर्वाधिक प्रवाह होता है
(क) एशिया
(ख) यूरोप
(ग) उत्तरी अमेरिका
(घ) अफ्रीका
 
(iii) दक्षिण अमेरिकी राष्ट्रों में से कौन-सा एक ओपेक का सदस्य है
(क) ब्राजील
(ख) वेनेजुएला
(ग) चिली
(घ) पेरू

(iv) निम्न व्यापार समूहों में से भारत किसका एक सह-सदस्य है
(क) साफ्टा (SAFTA)
(ख) आसियान (ASEAN)
(ग) ओईसीडी (OECD)
(घ) ओपेक (OPEC)

Answer 1 :

(i) (ख) विस्तृत पत्तन
(ii) (ख) यूरोप
(iii) (ख) वेनेजुएला
(iv) (क) साफ्टा (SAFTA)

Question 2 : विश्व व्यापार संगठन के आधारभूत कार्य कौन-से हैं?

Answer 2 :

विश्व व्यापार संगठन के आधारभूत कार्य
विश्व व्यापार संगठन के आधारभूत कार्य निम्नलिखित हैं

  1. विश्व व्यापार संगठन एकमात्र ऐसा अन्तर्राष्ट्रीय संगठन है, जो राष्ट्रों के मध्य वैश्विक नियमों का व्यवहार करता है।
  2. यह विश्वव्यापी व्यापार तन्त्र के लिए नियमों को तय करता है।
  3. इसके सदस्य देशों के मध्य विवादों का निपटारा करता है।
  4. यह विश्व को उच्च सीमा शुल्क और विभिन्न प्रकार की बाधाओं से मुक्त करवाता है।

Question 3 : ऋणात्मक भुगतान सन्तुलन का होना किसी देश के लिए क्यों हानिकारक होता है?

Answer 3 :

एक ऋणात्मक भुगतान सन्तुलन का अर्थ होगा कि देश. वस्तुओं के क्रय पर उससे अधिक खर्च करता है जितना कि अपने सामानों के विक्रय से अर्जित करता है। यह अन्तिम रूप में वित्तीय संचय की समाप्ति · को अभिप्रेरित करता है।

Question 4 : व्यापारिक समूहों के निर्माण द्वारा राष्ट्रों को क्या लाभ प्राप्त होते हैं?

Answer 4 :

प्रादेशिक व्यापार समूह व्यापार की मदों में भौगोलिक सामीप्य, समरूपता और पूरकता के साथ देशों के मध्य व्यापार को बढ़ाने में सहायता करते हैं। ये व्यापार पर लगे प्रतिबन्ध हटाने में सहायता करते हैं। ये प्रादेशिक व्यापार को बढ़ावा देते हैं। दावा लेते हैं।

Question 5 : पत्तन किस प्रकार व्यापार में सहायक होते हैं? पत्तनों का वर्गीकरण उनकी अवस्थिति के आधार पर कीजिए।

Answer 5 :

पत्तन व्यापार के सहायक के रूप में

  1. ये अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार की दुनिया में मुख्य प्रवेश द्वार होते हैं। इन्हीं पत्तनों के द्वारा जहाजी माल तथा । यात्री विश्व के एक भाग से दूसरे भाग को जाते हैं।
  2. पत्तन जहाज के लिए गोदी लादने, उतारने तथा भण्डारण हेतु सुविधाएँ प्रदान करते हैं।
  3. एक पत्तन के महत्त्व को नौभार के आकार और निपटान के लिए जहाजों की संख्या द्वारा निश्चित किया जाता है।
  4. एक पत्तन द्वारा निपटाया नौभार उसके पृष्ठ प्रदेश के विकास के स्तर का सूचक है।
पत्तनों का वर्गीकरण – अवस्थिति के आधार पर
अवस्थिति के आधार पर पत्तनों के दो प्रकार हैं
1. आन्तरिक पत्तन – ये पत्तन समुद्र दूर स्थलखण्ड के भीतर स्थित होते हैं, परन्तु नदी या नहर द्वारा समूह से जुड़े होते हैं, जिससे विशेष प्रकार के पोत बजरे (छोटी अतिरिक्त नौकाएँ) की सहायता से इन तक पहुँचते हैं, उदाहरण के लिए मानचेस्टर, कोलकाता आदि।

2. बाह्य पत्तन – ये गहरे पानी के पत्तन हैं। ये वास्तविक पत्तनों से दूर गहरे समुद्रों में बनाए जाते हैं, क्योंकि जलपोत या तो अपने बड़े आकार के कारण या अधिक मात्रा में अवसाद हो जाने के कारण वास्तविक पत्तन तक नहीं पहुंच पाते। बोस्टन ऐसा ही पत्तन है।

Question 6 : अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार से देश कैसे लाभ प्राप्त करते हैं?

Answer 6 :

अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार विश्व के अन्य देशों के साथ वस्तुओं और सेवाओं का आदान-प्रदान है। अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार से देशों को निम्नवत् लाभ पहुँचता है

  1. राष्ट्र उन वस्तुओं का आयात कर सकते हैं जिनका उनके यहाँ उत्पादन नहीं होता।
  2. अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार से देशों में आपसी सहयोग और भाई-चारा बढ़ता है।
  3. देश अपने यहाँ अतिरिक्त उत्पादन को उचित मूल्य पर अन्य देशों को बेच सकते हैं जिससे राष्ट्रीय आय में वृद्धि होगी।
  4. देश अपने विशिष्ट उत्पादन का निर्यात कर सकते हैं, इससे विश्व अर्थव्यवस्था में सुधार आता है।
  5. अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार सिद्धान्तों और वस्तुओं के स्थानान्तरण के सिद्धान्त पर निर्भर करता है, जिससे व्यापार करने वाले देशों को लाभ ही पहुँचता है।
  6. आधुनिक युग में अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार के अन्तर्गत प्रौद्योगिक ज्ञान तथा अन्य बौद्धिक सेवाओं का भी आदान-प्रदान किया जाता है जिससे दोनों देशों को लाभ पहुँचता है।


Selected

 

Chapter 9- अंतर्राष्ट्रीय व्यापार (International Trade) Contributors

krishan

Share your email for latest updates

Name:
Email:

Our partners