• +91 9971497814
  • info@interviewmaterial.com

Chapter 1- हमारा सौरमण्डल Interview Questions Answers

Question 1 : आकाशीय पिण्ड से आप क्या समझते हैं?

Answer 1 :

पृथ्वी से आकाश में दिखाई देने वाली सभी चमकती हुई आकृतियाँ, आकाशीय पिण्ड या खगोलीय पिण्ड (Celestial Bodies) कहलाते हैं। इनमें सूर्य, चन्द्रमा, तारे आदि शामिल हैं।

Question 2 : ग्रह और उपग्रह में क्या अन्तर है?

Answer 2 :

ग्रह और उपग्रह में निम्नलिखित अन्तर हैं –

Question 3 : कुडपर बेल्ट क्या है?

Answer 3 :

नेपच्यून के पार सौरमंडल के आखिरी सिरों पर एक तश्तरीनुमा विशाल पट्टी है, जिसे कुइपर बेल्ट या मेखला कहा जाता है। इसमें असंख्य खगोलीय पिंड उपस्थित हैं, जिनमें कई बर्फ से बने हैं। धूमकेतु इसी क्षेत्र से आते हैं।

Question 4 : निहारिका से आप क्या समझते हैं ?

Answer 4 :

बिग बैंग की घटना के कुछ करोड़ वर्ष के बाद तारों और आकाशगंगाओं का निर्माण होने लगा। वास्तव में आकाशगंगा का निर्माण हाइड्रोजन, हीलियम गैसों तथा धूलकणों से बने विशाल बादल के इकट्ठा होने से हुआ है। आकाशगंगा को बनाने वाले इन बादलों को निहारिका (Nebula) कहते हैं।

Question 5 : आकाशगंगा किसे कहते हैं ? हमारा सौरमण्डल किस आकाशगंगा में है ?

Answer 5 :

आकाश में एक ओर से दूसरी ओर तक फैली चौड़ी सफेद पट्टी की तरह एक चमकदार पथे जो असंख्य तारों का समूह है, आकाश गंगा कहलाता है। हमारा सौरमंडल मंदाकिनी’ नामक आकाश गंगा में है।

Question 6 :
सही जोड़े बनाइए-

Answer 6 :


Question 7 :
सही जोड़े बनाइए-
(क) तारे गर्म ____ से बने गोले हैं।
(ख) हमारे सौर मण्डल में ____ ग्रहे हैं।
(ग) हमारी पृथ्वी का एकमात्र उपग्रह _____ है।
(घ) क्षुद्र ग्रह _____ एवं _______ ग्रह के मध्य पाये जाते हैं।

Answer 7 :

(क) तारे गर्म गैसों से बने गोले हैं।
(ख) हमारे सौर मण्डल में आठ ग्रहे हैं।
(ग) हमारी पृथ्वी का एकमात्र उपग्रह चन्द्रमा है।
(घ) क्षुद्र ग्रह मंगल एवं बृहस्पति ग्रह के मध्य पाये जाते हैं।

Question 8 : यम को ग्रह की श्रेणी से क्यों हटा दिया गया? इसकी जानकारी प्राप्त कीजिए।

Answer 8 :

अगस्त 2006 तक यम हमारे सौरमंडल का नवाँ ग्रह माना जाता था। यम यानी प्लूटो नेपच्यून की कक्षा का अतिक्रमण करता था। अतः 24 अगस्त 2006 को अंतरराष्ट्रीय खगोलीय संघ द्वारा यम यानी प्लूटो को ग्रह की श्रेणी से हटा दिया गया।


Selected

 

Chapter 1- हमारा सौरमण्डल Contributors

krishan

Share your email for latest updates

Name:
Email:

Our partners